छग: दागी IPS राजकुमार देवांगन के खिलाफ बड़ी कार्रवाई, दी गई अनिवार्य सेवानिवृत्ति
Last Update: 12 Jan 2017 11:41
   

छत्तीसगढ़ के विवादित IPS अफसर राजकुमार देवांगन को अनिवार्य सेवा निवृति देकर पद से हटा दिया गया है। उनके खिलाफ कई आरोप लगे थे। साल 2015 में छानबीन समिति की रिपोर्ट के आधार पर केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय ने देवांगन को सेवा से अलग करने का राज्य सरकार को निर्देश दिया।

जिसके बाद आज जनहित में देवांगन को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने का आदेश जारी कर दिया गया। 92 बैच के IPS अधिकारी राजकुमार देवांगन IG होमगार्ड थे। आपको बता दें कि 1998 में जांजगीर जिले के बाराद्वार में हुई 65 लाख की डकैती के मामले  में राजकुमार देवांगन पर भी सनसनीखेज आरोप लगे थे।

डकैती की रकम तत्कालीन थानेदार के घर पर मिली थी और राजकुमार देवांगन उस वक्त जांजगीर जिले के एसपी थे। इस घटना के बाद राजकुमार देवांगन को सस्पेंड भी किया गया था। छत्तीसगढ़ में ये पहला मौका है, जब किसी अखिल भारतीय सेवा के अधिकारी को नौकरी से ही निकाला गया है।

इस कार्रवाई के बाद अब कई और दागी और निकम्मे IAS, IPS समेत IFS अफसरों पर भी कार्रवाई के आसार बन गए हैं। सरकार ने हर साल अफसरों के कामकाज का आकलन करने और खराब परफार्मेंस होने पर उन्हें नौकरी से हटाने का पहले ही फैसला कर लिया है।

Last Update: 12 Jan 2017 11:41
TAG:
ACTION
IPS
RAJKUMAR DEWANGAN
AGAINST
MAJOR
TAINTED
  Comment
Name Email
Comment
मप्र: विस में सरकार पर लगा 13 हजार गाँवो की बिजली काटने का आरोप, कांग्रेस ने दी आंदोलन की चेतावनी
मप्र: विस में फिर गूंजा अवैध उत्खनन को लेकर हंगामा, नर्मदा सेवा यात्रा को बताया फर्जी
भोपाल: नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने उठाई लाल बत्ती प्रथा खत्म करने की मांग
पीएम मोदी से देश की घड़ी 2 घंटे आगे बढ़ाने की अपील...
जिले में छोटी-छोटी रेत की खदानों को मंजूरी दिलाएंगे खनिज मंत्री राजेंद्र शुक्ल